Text selection Lock by Hindi Blog Tips

Friday, February 3, 2012

मेरा जीवन और नौ ग्रह


मेरा ये जीवन नौ ग्रहों से 
है घिरा हुआ 
चारों तरफ ,इर्द -गिर्द ,
मैंने इनको माला के मोतियों 
की तरह संतुलन के साथ 
बैठा रखा है ...!

सूरज को  दिल में तो 
चन्द्र को मन में बसा रखा है ,
मंदिर जाती हूँ तो गुरु को 
साथ ले जाती हूँ 
 नयन  जब कभी
 मय-छलकाने लगते है 
तो शुक्र को कान पकड 
कर धमका भी देती हूँ ...

शनि -मंगल ने मेरा साथ 
कभी न छोड़ा है 
बुध की कोई परवाह नहीं ,
इसे तो मैंने दांतों से पकड़ 
रखा है
राहू और केतु इनसे तो 
मैं नाराज ही रहती हूँ  ,
ये मुझसे ही डरते है ...
ये सारे ग्रह मेरा जीवन 
संचालित करते है और
मैं इनको .........!!